venezuela crisis : ₹80 हज़ार प्रति लीटर दूध व 3 लाख रूपए प्रति किलो बिक रहा है मीट

वेनेजुएला में आर्थिक व्यवस्था तहस-नहस हो गई है। दूध जहां ₹80000 में 1 लीटर मिल रहा है । वहीं मीट 3 लाख रूपए प्रति किलो मिल रहा है । यह हालात लगभग 2 वर्षों से हैं। बोरे में रूपए भर के ले जाने पर भी आपको एक टाइम का खाना मिलना मुश्किल हैं ।

यह भी पढ़े : कांग्रेस कल्चर से मिले मुक्ति, लोकलुभावन नहीं होगा बजट ,पाक केंद्रित नहीं विदेश नीति -मोदी

वेनेज़ुएला करेंसी
100 बोलिवार – 0.14 अमेरिकी डॉलर ( 9.32 भारतीय रूपए )

अर्थव्यवस्था कमजोर होने के कारण

वेनेजुएला की अर्थव्यवस्था मुख्यतः तेल निर्यात पर टिकी है। वेनजुएला में निकाले जाने वाले भारी पेट्रोलियम को शुद्ध करना खर्चीला है । लेकिन फिर भी अन्य देशों की तुलना में वेनेजुएला में तेल सस्ता है। लेकिन यहां की सरकार की नीतियों के चलते विदेशी कंपनियों ने पेट्रोलियम क्षेत्र पर कब्जा कर लिया है। वह तेल निर्यात व उत्पादन में भारी कमी के कारण आर्थिक व्यवस्था चरमरा गई है ।

कोलंबिया में शरण

वेनजुएला की अर्थव्यवस्था से परेशान करीब 10 लाख लोग कोलंबिया में शरण ले चुके हैं ।इसके पीछे वेनेजुएला में खाने पीने और दवाइयों को लेकर भारी कमी संकट का कारण है।

यह भी पढ़े : चारा घोटाला -लालू यादव को 6 मे से 3 मामलो मे सजा, चाईबासा मामले मे 5 साल की कैद 5 लाख जुर्माना

तख्तापलट की आशंका

सुरक्षा की दृष्टि से असुरक्षित वेनेजुएला में अमेरिका ने तख्तापलट की आशंका जताई है ।

पड़ोसी देशों द्वारा उपेक्षा

यूरोपियन यूनियन, ब्राजील, अर्जेंटीना, मेक्सिको द्वारा वेनजुएला की राजनीतिक स्तर और सामरिक स्तर पर उपेक्षा की जा रही है।

यह भी पढ़े :Budget 2018 : किसान,सीनियर सिटीजन खुश, मध्यम वर्ग निराश, योजनाओ से बताया विकास का रास्ता

पेरू सम्मेलन में निमंत्रण नहीं

पेरू ने अपने देश की राजधानी लीमा में हो रहे सम्मेलन में वेनेजुएला को आमंत्रित नहीं किया है ।

भारत और अमेरिका की भूमिका

भारत और अमेरिका वेनेजुएला से पेट्रोलियम खरीदते हैं। लेकिन वर्तमान में वेनेजुएला में 30 लाख बैरल के स्थान पर 2.5 लाख बैरल तेल का ही उत्पादन हो रहा है। जिससे निर्यात में कमी हो रही है ।वह अर्थव्यवस्था भी प्रभावित हो रही है।

Please share:

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*


Powered by Live Score & Live Score App