MOVIE REVIEW Padman : सेनेटरी पैड की अहमियत बता रहे हैं अक्षय कुमार

अक्षय कुमार वर्तमान में अपने सामाजिक सरोकार वाली फिल्मों के लिए जाने जाते हैं। जिनमें टॉयलेट एक प्रेम कथा भी है । पैडमैन में भी अक्षय की मौजूदगी ने सेनेटरी पैड महिलाओं के लिए आवश्यक होने का दृढ संदेश समाज में प्रसारित किया है । वह महावारी के भ्रामक तथ्यों को भी तोड़ने का प्रयास किया है।

कौन है पैडमैन

वास्तव में तमिलनाडु के पदम पुरस्कार से पुरस्कृत अरुणाचलम मुरुगनाथम के अपनी पत्नी के लिए सेनेटरी पैड उपयोग के संघर्ष की कहानी पर आधारित है ।

MOVIE REVIEW : “पद्ममावत” मेवाड़ के शौर्य की कहानी, जायसी की जुबानी

पैडमैन कहानी का सारांश

सेनेटरी पैड की जागरूकता पर आधारित फिल्म में उत्तर प्रदेश  के लक्ष्मीकांत चौहान उर्फ लक्ष्मी (अक्षय कुमार) के संघर्ष की कहानी है । फैक्ट्री वर्कर लक्ष्मीकांत की पत्नी गायत्री (राधिका आप्टे) पीरियड्स में सैनिटरी पैड महंगे होने कारण उपयोग में नहीं ले पाती है। वह गंदे कपड़े महावारी में प्रयोग करती है। पत्नी के इस कष्ट को दूर करने के लिए लक्ष्मीकांत सस्ते सेनेटरी पैड बनाता है ।वह अन्य महिलाओं की भी मदद करता है ।सोनम कपूर का भी छोटा लेकिन प्रभावित करने वाला सोशल वर्कर का रोल है।

रेटिंग – 4.00 /5
डायरेक्टर – आर बाल्की
स्टार कास्ट – अक्षय कुमार ,राधिका आप्टे, सोनम कपूर

सेनेटरी पैड के उपयोग की भारत में वर्तमान स्थिति

18% महिलाएं ही सेनेटरी पैड उपयोग करती हैं । 82% महिलाएं पत्ते पुराने कपड़े, राख जैसे असुरक्षित चीजों का उपयोग करती हैं ।

आर. बाल्की निर्देशित फिल्में

चीनी कम ,की एंड का , पा जैसी चर्चित फिल्मों का निर्देशन कर चुके हैं।

Please share:

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*


Powered by Live Score & Live Score App