सुप्रीम कोर्ट सख्त – खाप नहीं दे सकती बालिग विवाह में दखल

खाप पंचायत पर चल रहे मामले की सुनवाई के दौरान चीफ जस्टिस ऑफ इंडिया ने साफ शब्दों में कहा कि देश की कोई सोसाइटी या पंचायत देश के कानून से ऊपर जाकर दो व्यस्को के विवाह को गैरकानूनी नहीं कह सकती है ।

वयस्क अधिकारों की चिंता

न्यायालय ने सुनवाई में कहा कि वे खाप पंचायतों के कानून की चिंता नहीं है। न्यायलय केवल भारतीय कानून के अनुसार बालिग विवाह को सुरक्षा प्रदान करना चाहते हैं।

 यह भी पढ़े  :Auto Expo -2018 :रिवर्स गियर व 80 किलोमीटर /इलेक्ट्रिक चार्ज में आ रहा है स्कूटर फ्लो

क्या है खाप

उत्तरी भारत में पंचायतों का एक समूह (विशेष रूप से हरियाणा में सक्रिय )जो समाज के महत्वपूर्ण फैसलों में योगदान देती है। यह लगभग 800 वर्ष पुरानी संस्था है । जो वर्तमान में ऑनर किलिंग और अपने अलग तरह के नियमों कायदो के कारण चर्चा में है।

अंकित सक्सेना हत्या मामला

एक याचिकाकर्ता ने दिल्ली के ख्याला में हुई अंकित सक्सेना हत्या को ऑनर किलिंग बताया लेकिन जज ने कहा कि यह मामला उनके संज्ञान में नहीं है ।

 यह भी पढ़े  Result 2017 Bihar Central Board Of constable :पदों का परिणाम घोषित,9 फरवरी को फिजिकल टेस्ट एडमिट कार्ड होंगे जारी

हरियाणा CM मनोहर लाल खट्टर के खाप पर पहले का बयान

खाप पंचायतों का अपना कार्य करने का तरीका है। एक आध घटनाओ से उन्हे गलत नहीं बताया जा सकता है । गलतियां सभी से होती है।

Please share:

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*


Powered by Live Score & Live Score App